Friday, September 14, 2012

ट्यूनीशिया या लीबिया में पर्दा ज्यादा ताकतवर है?

   भारत में जब किसी सिनेमा घर के बाहर ऐसा बोर्ड लगा हो- "केवल वयस्कों के लिए" तो उस सिनेमा घर के आस-पास से ललचाई नज़र लिए गुजरने वाले तो मिलेंगे ही, हाल के भीतर भी किशोर और बच्चे अच्छी तादाद में मिलेंगे। इतना ही नहीं, परदे पर भूत देख कर खिलखिलाने वाले बच्चे भी मिलेंगे। किसी को चाक़ू मार कर मौत की नींद सुला देने पर भी ज़रा विचलित न होने वाले किशोर मिलेंगे। ज्यादती की घटना पर ताली बजाते लोग भी देखे जा सकते हैं।
   तात्पर्य यह, कि  फिल्मों को कोई गंभीरता से नहीं लेता। इसे 'पात्रों' की रास-लीला से ज्यादा अहमियत कोई नहीं देता। यदि कभी-कभार कोई कबीर-पंथी कबीर को "दस नम्बरी" कहने पर अपना विरोध दर्ज करा भी दे,तो उसे बहला-फुसला कर इस तरह सेट कर दिया जाता है, कि  दो दिन बाद वह डायरेक्टर के साथ फोटो खिंचवाता और हीरो के ऑटोग्राफ लेता पाया जाता है। बल्कि कभी-कभी तो बनावटी बवंडर खड़े करके मीडिया में छाने और पब्लिसिटी पाने का काम खुद निर्माता और उसके आदमी करते पाए जाते हैं।
   ऐसे में समझना मुश्किल है, कि  संवेदन-हीनता को महानता माना जाए, या संवेदन-शीलता को ?

4 comments:

  1. विचारणीय बात कही आपने.......
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  2. ऐसे में समझना मुश्किल है, कि संवेदन-हीनता को महानता माना जाए, या संवेदन-शीलता को ?

    SATY KO BADE IMANDARI SE KAHANE AK DUSSSAHAS.

    ReplyDelete
  3. Dhanywad, vaise ab "kahna ya bolna" dheere-dheere faishan men aa raha hai.

    ReplyDelete

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...