Tuesday, January 8, 2013

शिक्षा और सब्जियां

यदि आप रसोई में जाएँ, और आपको वहां सब्जियां धुली, साफ़ की हुई, काटी हुई, तैयार रखी हुई मिलें,तो आपको कुकिंग में आसानी तो हो ही जाती है, आनंद भी आ जाता है।
लेकिन "शिक्षा" में यह प्रयोग सफल नहीं है। शिक्षा की अपेक्षा यह है, कि  आपको यह भी जानकारी हो कि  कौन सी सब्जी खेत में किस तरह, किन दिनों, कितने समय में तैयार होती है। वह सब्जी पेड़ का कौन सा भाग है। उसका कौन सा भाग हटाया और कौन सा खाया जाना चाहिए, और उसे किस तरह पकाया जाना चाहिए। सोने पर सुहागा तो यह होगा कि  उस सब्जी में कौन से गुण हैं, यह भी आप जानें।
शिक्षा में 'शॉर्टकट' जिंदगी में लम्बे और घुमावदार सिद्ध होंगे। शिक्षा किसी फूल से अपने को सजा लेने या सुवासित कर लेने का नाम नहीं है। बीज से धरती, पानी, हवा, और धूप के माध्यम से बरास्ता पेड़ और फूल, गंध का जन्मना भी शिक्षा में शामिल है। ये बात, इस से पहले कि  जिंदगी हमारे विद्यार्थियों को समझाए, हमें समझा देनी चाहिए।















No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...