Saturday, May 21, 2011

क्या ये चीज़ें अच्छी नहीं?

मैं अक्सर सोचता हूँ कि कभी-कभी केवल उन बातों या मसलों को लेकर बैठना चाहिए, जो आपको पसंद हों.आज मैं आपको बताता हूँ कि मुझे क्या पसंद है. स्वाभाविक है कि यह सूची पूरी नहीं है, हम इस पर आगे भी बात करेंगे. 
१. अकस्मात् मिलने वाले तोहफे 
२. किसी भी विषय पर उगते हुए विचार 
३. पुराने सूती कपडे 
४. संकोची स्वभाव के लड़के और बहिर्मुखी लड़कियां 
५. पुलिस और सेना के बुज़ुर्ग लोग 
६. आरम्भ 
७. गर्मी का मौसम 
८. सुनसान मंदिर 
९. रोचक उपन्यास के साथ छुट्टी की दोपहर 
१०. सूर्यास्त    

2 comments:

  1. sarv pratham to main aapko haardik dhanyavaad dena chahti hoon .aap mere blog par aaye apna precious comment diya.usi ke madhyam se aapke blog ka pata mila.aapki pasand jaanne ko mili.bahut achchi pasand hai aapki.aapke baaki lekh bhi dheere dheere padhna chahungi.aapka aabhar.

    ReplyDelete
  2. निसंदेह जो बातें आपने लिखी हैं , वे अकसर ही मन को छू जाती हैं। कभी अचानक से मिलने वाले छोटे से उपहार , ख़ास कर।

    ReplyDelete

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...