Wednesday, May 4, 2011

अब तक हो ???

वो बूढा जो जा रहा है देखो, धीरे-धीरे अपने काम से 
अपना समय काटने 
चाहता है मन ही मन 
कि घेर लें उसे आकर, चारों तरफ से लोग 
और पूछें उससे - कैसे हो ? 
कैसे खाते हो अब, कमज़ोर पड़ गए दांतों से 
क्या करते हो बीमार पड़ने पर 
कहाँ खपाते हो पूरे चौबीस घंटे का दिन ?
लेकिन नहीं आते लोग 
आतीं हैं केवल लोगों की आहटें पूछती हुई,
कि कब तक खाते रहोगे 
कहाँ रखी है दबा कर अपनी कमाई 
और ...अब तक हो ???

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...