Saturday, August 2, 2014

पढ़ा लिखा कलियुग !

लोग करें बदनाम व्यर्थ ही कलियुग को देखो
त्रेता- द्वापर-सतयुग से ये कैसे कम ? देखो !
त्रेता ने उठवाई सीता, रंगे रक्त से हाथ राम ने
द्वापर में हत्या करवाई कंसराज ने कर्म कांड से
हुए फैसले चीरहरण से, जुआ खेलकर राज चले
अब तो बस "किताब" से भैया, लगी-बुझी का खेल चले! 

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...