Monday, March 17, 2014

भोले मासूम राक्षस

कल होली का त्यौहार था. रंगों और उमंगों का त्यौहार !
सुबह से ही बहुत मासूम मौसम था. इस दिन सब बहुत भले-भले से लगते हैं, क्योंकि एक तो रंग खेलने की मुद्रा में पुराने कपड़ों में होते हैं, बिना नहाये-धोये अपने ओरिजनल चेहरे-मोहरे में होते हैं, दूसरे अपने स्टेटस, स्तर,जाति आदि से बेपरवाह होते हैं, और किसी को भी छू देने या छू लिए जाने की निर्दोष मानसिकता में होते हैं.ऐसा ही था, और चारों ओर देख कर ऐसा लग रहा था कि ज़िंदगी यही है, इसमें कहीं किसी दुःख का नामो-निशान नहीं है.पिछले चार महीने की  सर्दी ने भी जैसे धूप को चार्ज दे दिया था.
लेकिन दिन चढ़ते-चढ़ते सड़कों पर छोटे-छोटे किशोर और बच्चे दुपहिया वाहनों से तीन-चार सवारियों के बोझ से लहराते, ट्रेफिक नियमों को धता बताते, एक दूसरे से होड़ करते इस तरह अवतरित होने लगे मानो यह कोई शहर नहीं बल्कि घना जंगल हो, जिसमें कोई भी कभी भी घायल हो सकता है, कोई भी कभी भी मर सकता है.जो युवा या परिपक्व थे, उनमें कई नशे की  गिरफ्त में थे.
शाम होते-होते टीवी पर हर हस्पताल के आंकड़े आने लगे कि कहाँ-कहाँ कितने भर्ती हैं.कुछ अपनी गलती से और कुछ बेचारे निर्दोष दूसरों की  गलती से.
कभी-कभी लगता है कि हमारे त्यौहार भी अर्थ-व्यवस्था में सभी को कुछ न कुछ बांटने के लिए आते हैं. और सभी से कुछ न कुछ छीनने भी.              

2 comments:

  1. प्रेम व सौहार्द्य के इस त्योहार को इन लोगों की करतूतों ने बदनाम कर दिया है इसके पीछे की सभी भावनाएं समाप्त हो गयी है

    ReplyDelete
  2. Ji, yadi iska koi hal soch saken to kripya bataayen. Aabhar!

    ReplyDelete

Some deserving ones for...No. 1

देश जल्दी ही एक नए राष्ट्रपति का नेतृत्व पाने को है। कहना पड़ता है कि राजनैतिक दलों का आपसी वैमनस्य और कटुता असहनीय होने की हद तक गिर चुके ह...

Lokpriy ...