Wednesday, December 31, 2014

"2015"

प्रतीक्षा के बीच आखिर एक और नए वर्ष ने कदम रख ही दिया।  शुभकामनायें !
क्या आप जानते हैं कि ये वर्ष बेहद विशेष है, क्योंकि ये आपको कई सौगातें देने वाला है।  आप ही कहिये,इन सौगातों के बारे में आपको धीरे-धीरे समयानुसार बताया जाये या फिर आप सब कुछ अभी तत्काल जान लेना चाहते हैं। चलिए आपके उत्सुकता भरे इंतज़ार की कद्र करते हुए कुछ तो आपको अभी, इसी वक़्त बता दिया जाये।
 सबसे बड़ी खुशखबरी तो आपके लिए यह है कि आपको इस साल वे ढेर सारी पार्टियाँ फिर से मिलने वाली हैं जो आपके मित्रों, परिजनों,सहकर्मियों,पड़ोसियों आदि ने पिछले साल अपने-अपने जन्मदिन पर दी थीं।  विश्वस्त सूत्रों से खबर मिली है कि इस साल वे सभी अपना-अपना जन्मदिन फिर से मनाने वाले हैं।  है न ख़ुशी को चार-चाँद लगाने वाली बात? तो आप भी कंजूसी मत कीजियेगा, अपने जन्मदिन पर भी  सबको बढ़िया सी पार्टी दे डालियेगा।
पहले दिन ही इतनी ख़ुशी? रोज़ ऐसी ही ख़ुशी मिले आपको।  शुभकामनायें !       

4 comments:

  1. सही कहा। कादम्बिनी के इस माह के अंक में अापकी पुस्‍तक की समीक्षा छपी है।

    ReplyDelete
  2. Dhanyawad, dobara dhanyawad soochna dene ke liye!

    ReplyDelete
  3. आपको भी शुभकामनायें!

    ReplyDelete

SAAHITYA KI AVDHARNA

कुछ लोग समझते हैं कि केवल सुन्दर,मनमोहक व सकारात्मक ही लिखा जाना चाहिए।  नहीं-नहीं,साहित्य को इतना सजावटी बनाने से कोई प्रयोजन सिद्ध नहीं ह...

Lokpriy ...