Tuesday, April 2, 2013

डर

एक जंगल में बकरियां चराते हुए एक लड़की और एक लड़का आपस में मिल गए। पहले दिन उनमें जो संदेह, झड़प और असहयोग पनपे, उनकी तीव्रता धीरे-धीरे जाती रही। दोनों ही किशोर वय के थे, और पास के अलग-अलग गाँवों से आते थे। उनके पशु चरते रहते, और वे कीकर के पेड़ की छितरी छाँव में बैठे इधर-उधर की हांकते रहते।
एक दिन साथ चलते-चलते लड़की बोली, मुझे बहुत जोर की प्यास लगी है। संयोग से आज वे जिस तरफ निकल आये थे, दूर-दूर तक कहीं पानी नहीं दिख रहा था। लड़की बार-बार अपनी बात दोहराती- मुझे प्यास लगी है। लड़का खीजता।
अकस्मात एक टीले पर उन्हें एक गहरा कुआ दिखाई दिया, जो ऊपर से तो टूटा-फूटा  था, पर उसकी तली में थोड़ा सा पानी था। लड़का एक-दो पथरीले छेदों में पैर का अंगूठा टिकाता हुआ उसमें कूद गया।वह चुल्लू में भर कर आखिर कितना पानी इस अनिश्चित और दुर्गम ऊंचाई पर लाता, उसने इधर-उधर देखा, और उसे भीतर ही किनारे पर एक फूटे मटके के कुछ टुकड़े पड़े दिख गये। लड़के को वापस बाहर आने में काफी मशक्कत करनी पड़ी, पर लड़की का काम हो गया।
लड़की ने पूछा- तुझे इतनी गहराई में उतरते डर नहीं लगा? लड़का कुछ न बोला।
कुछ देर बाद लड़का बोला - मुझे प्यास लगी है।
लड़की ने कहा- अरे, तू पानी नहीं पीकर आया? लड़का कुछ न बोला, बस, लड़की की ओर देखता रहा।
लड़की एकाएक बोली- मुझे डर  लग रहा है, और वापस लौटने के लिए अपनी बकरियों को पुकारने लगी।

3 comments:

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...