Saturday, January 18, 2014

ए बी सी डी

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल ने और भी बहुत सारे संदेशों के साथ-साथ ये मैसेज भी दिया है कि सबको पढ़ना चाहिए.
अब कुछ दिन पढ़ना ही पढ़ेगा.
तो आज का सबक़ -
ए फ़ॉर  आम आदमी पार्टी
बी फ़ॉर  भारतीय जनता पार्टी
सी फ़ॉर कॉन्ग्रेस
डी फ़ॉर दिल्ली !
शेष कल !   

2 comments:

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...