Wednesday, February 17, 2016

खलनायक नहीं है कास्टिंग काउच [ 3 ]

आपको याद होगा कि वर्षों पहले तो शादियां भी लड़के-लड़की को एक दूसरे को दिखाए बिना तय हो जाती थीं। लेकिन उस समय भी समाज ने ये व्यवस्था की थी कि दावेदार की पूरी परख हो सके। शादी तय करवाने का काम "नाई" के जिम्मे था। जानते हैं क्यों? क्योंकि बदन मालिश के जरिये आपकी टोह ले लेने में वह सक्षम था, और उसकी पहुँच आपके शरीर के अंतरंग भागों तक थी। यह उसकी व्यावसायिक विशेषज्ञता थी।       
जिस तरह एक नेता को लाखों अलग-अलग धर्म, व्यवसाय, उम्र,आर्थिक स्थिति, भाषा ज्ञान, सांस्कृतिक मूल्य, शैक्षणिक समझ वाले लोगों से वोट लेना होता है वैसे ही अभिनेता को भी अलग-अलग तरह की मानसिकता वाले लोगों को प्रभावित करना होता है।
इसीलिये व्यावहारिक रूप से नेता एक ओर खादी के वस्त्र पहन कर लोगों से उन्नति की बात भी करते हैं,दूसरी ओर चोरी छिपे शराब की बोतलें भी बँटवाते हैं। उसी तरह अभिनेता को भी एक तरफ इंसानियत के दमदार डायलॉग बोलकर आपकी तालियाँ बटोरनी हैं, दूसरी तरफ प्रेम-सेक्स आकर्षण की बरसात करके आपकी छिपी भावनाओं को भी भड़काना है।
अभिनेता की इस "योग्यता" का पूर्व आकलन करने की मंशा रखने वाला विशेषज्ञ ही वस्तुतः कास्टिंग काउच है। आप सोचिये, यदि वह केवल सेक्स चाहने वाला व्यसनी ही हो, तो क्या बाजार में उसकी अपेक्षा पूर्ति के अन्य साधन कम हैं?
यही कारण है कि जब किसी मध्यमवर्गीय परिवार के बच्चे फिल्मों का रुख करने की चाहत रखते हैं तो उन्हें घरवालों द्वारा रोका जाता है। क्योंकि कई बार नकली कास्टिंग काउच आपके साथ धोखाधड़ी कर देते हैं।
आज एक अच्छी बात ये भी है कि टेक्नोलॉजी ने आपके इम्तहान को आसान बना दिया है। अब आप अपना "सब कुछ" बिना शारीरिक नुक्सान उठाये किसी के सामने प्रदर्शित कर सकते हैं। अपने अनावृत्त शरीर के छायांकन और वीडिओज़ के द्वारा आप बिना झिझक या संकोच के अपनी दावेदारी अपने पारखियों के सामने परोस सकते हैं। तो अब कास्टिंग काउच भी आभासी हैं, वर्चुअल हैं। अपने सपनों में रंग भरने के लिए अब आपको जोखिम उठाने की पहले जैसी ज़रूरत नहीं रही।              

3 comments:

  1. Replies
    1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (19.02.2016) को "सफर रुक सकता नहीं " (चर्चा अंक-2257)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

      Delete

Some deserving ones for...No. 1

देश जल्दी ही एक नए राष्ट्रपति का नेतृत्व पाने को है। कहना पड़ता है कि राजनैतिक दलों का आपसी वैमनस्य और कटुता असहनीय होने की हद तक गिर चुके ह...

Lokpriy ...