Friday, January 23, 2015

हाँ,तो आपने बताया नहीं, क्या सोचा आपने चेतन भगत की बात पर?

                                  

4 comments:

  1. Baat ko padhne ke liye aapka aabhaar !

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति। वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  3. Aapka aabhaar.Aapko bhee shubhkamnayen.

    ReplyDelete

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...