Sunday, November 23, 2014

किताबें किसलिए हैं?


    

8 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. किताबें सबसे अच्छी मित्र होती हैं कभी अकेला नहीं छोड़ती

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत अच्छी तक़रीर है सर

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...