Tuesday, July 7, 2009

Sapne yun nahin poore hote...

Arjun Singh ji ke baad Kapil Sibbal ne shiksha par nayi nazar daalne ka beeda uthaya hai... lekin ek baat hamesha yaad rakhni hogi ki koi bhi desh apni medha, yogyata ya pratibha ko sarkari bandar-baant mein fansa kar sukhi nahin ho sakta... IIM ya IIT mein sirf aur sirf pratibha ke liye darwaza khule, nahin to anarth ho jayega... pata nahin kyon, hamare desh mein ab ye sochne ki pratha hi khatam ho gayee hai ki kisi bhi sarkari kursi par baith kar kaam karna padta hai... aur koi bhi kaam kabiliyat se hi ho sakta hai... hum chahe jis theehe pe chahe jis manak ko saja den, aise moti maala pirone ka kaam nahin hai shiksha jagat... sab banta-dhaar ho jayega yadi hum shiksha mein arakshan ko jagah denge...
Desh ke doctors apne apne clinics mein baith kar share-bazaar chala rahe hain... unse ilaaj karaane koi nahin aata... yeh sab medical mein arakshan dene ka nateeja hai... kal engineer, prabandhak, CA, vakeel, sab aise na ho jaayen... iske liye aaj zaroori hai ki arakshan naam ki chidiya ke par ab katre jaayen...

1 comment:

  1. मैं खुद आरक्षण का धुर विरोधी हूँ लेकिन मुझे नहीं लगता कि अब आरक्षण खत्म होने वाला है | जो भी सरकार आती है इसे बढ़ाती ही चली आती है , मैंने कभी नहीं सुना कि किसी सरकार ने अमुक जगह से आरक्षण खत्म कर दिया |
    आप समाज के दबे कुचले वर्ग को ऊपर उठाकर सबको एक बराबर में लाइए लेकिन आरक्षण का मतलब ऊपर उठाना नहीं होता , आरक्षण का मतलब है कि एक ठीक ठाक इंसान को आपने बैसाखी पकड़ा दी और उससे चलने को बोला | आप उनके लिए सुविधाएँ मुहैया कराइए , बराबरी का प्लेटफोर्म तैयार कीजिये , उनको उस प्लेटफोर्म तक लाने में मदद कीजिये , कुछ आधारभूत जरूरतें है उनमे मदद कीजिये और जब वो तैयार हो जाए तो उसे दौड़ने के लिए छोड़ दीजिए , अब दोनों (उच्च वर्ग और निम्न वर्ग) एक सामान होंगे , जिसमे प्रतिभा होगी वही जीतेगा |

    सादर

    ReplyDelete

प्राथमिक उपचार है तुष्टिकरण

यदि दो बच्चे आपस में झगड़ रहे हों और उनमें से एक अपने को कमज़ोर पा कर रो पड़े तो हम उनमें फिर से बराबरी की भावना जगाने के लिए एक का तात्कालिक ...

Lokpriy ...